Sunday, February 5, 2017

2017

हर एक कोने में, 
आज हम हैं... 
अपनी निजी ज़िन्दगी लोगों के लिए Live बनाते हुए,
और हर एक गुज़रते दिन के साथ,
वो technique,
और भी उम्दा होती जा रही है,
और हर एक गुज़रते दिन के साथ,
मेरी बात सुनने का तुम्हारे पास वक़्त,
और भी कम। 


-प्रणव मिश्र 



No comments:

Post a Comment