Saturday, January 28, 2017

बहुत कुछ बदला है, दरमियाँ अपने,
बस, तुम्हारे पहने हुए कपड़ों की

ख़ुशबू  नहीं बदली।






-प्रणव मिश्र 

No comments:

Post a Comment